विमिन रेसर को मेंस के साथ दौड़ने का ऑर्डर दे रहा है IAAF

इंटरनेशनल एसोसिएशन ऑफ एथलेटिक्स फेडरेशन (IAFF) ने 2 ओलंपिक्स गोल्ड, 2 कॉमनवेल्थ गोल्ड, 3 वर्ल्ड चैम्पियनशिप गोल्ड जीत चुकी साउथ अफ्रीकी रनर कैस्टर सेमेन्या को विमिंस रेस में दौड़ने से मना कर दिया है। IAFF का कहना है कि अगर वे अपना करियर जारी रखना चाहती हैं तो मेंस के साथ दौड़ना शुरू करें।

साल 2009 में कैस्टर ने पहली बार वर्ल्ड चैंपियनशिप में रेस लगाई थी। 1500 मीटर रेस में कैस्टर ने 4:08.01 मिनट का समय निकाला और उनकी इस रफ्तार से दुनिया हैरान हो गई। उनकी रफ्तार के चलते IAFF ने तो कैस्टर के महिला होने पर ही शक कर लिया।

फेयर प्ले की दलील

फेयर प्ले की दलील देते हुए IAFF ने कैस्टर का जेंडर टेस्ट तक करा लिया। बाद में पता चला कि उनकी रफ्तार इतनी ज्यादा होने के पीछे उनके शरीर में रिसने वाले टेस्टोस्टेरॉन हार्मोन की ज्यादा मात्रा जिम्मेदार है। इसके बाद फेडरेशन ने कहा कि अब कैस्टर विमिंस कैटेगरी में नहीं दौड़ सकतीं।

IAFF का कहना है अगर कैस्टर रनिंग करना ही चाहती हैं तो उन्हें मेंस कैटेगरी में दौड़ना होगा या फिर उनको मेडिकल प्रोसेस के जरिए शरीर का टेस्टोस्टेरॉन लेवल कम कराना होगा।

यूनाइटेड नेशंस ने इस मामले में कैस्टर का समर्थन करते हुए IAFF के इस नियम को गलत बताया है। अभी कैस्टर IAFF के साथ कानूनी लड़ाई लड़ रही हैं और उन्हें इसमें जीत की पूरी उम्मीद है।

Author: हिंदी में स्पोर्ट्स

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *