टोक्यो 2020 ओलंपिक्स से पहले फिट रहना बेहद जरूरी : सिंधु

टॉप इंडियन शटलर पीवी सिंधु का मानना है कि ओलंपिक क्वॉलिफिकेशन के साल में वर्कलोड के चलते टाइम मैनेजमेंट बेहद टफ है। उनका मानना है कि 2020 टोक्यो ओलंपिक्स से पहले फिट रहने के लिए प्लेयर्स को चुनिंदा टूर्नामेंटों में खेलने की जरूरत है।

गौरतलब है कि ओलंपिक क्वॉलिफिकेशन इस साल 29 अप्रैल से शुरू होगा और बैडमिंटन वर्ल्ड फेडरेशन (BWF) 30 अप्रैल 2020 की रैंकिंग के आधार पर स्थानों का आवंटन करेगा। पिछले साल से BWF दुनिया के टॉप 15 सिंगल्स प्लेयर्स और टॉप 10 डबल्स प्लेयर्स के लिए वर्ल्ड टूर पर 15 टूर्नामेंट्स में से कम से कम 12 टूर्नामेट्स में खेलना अनिवार्य कर चुका है।

टूर्नामेंट चयन पर खास जोर दे रही हैं सिंधु

BWF के इस नियम के खिलाफ जाने पर प्लेयर्स को जुर्माने का सामना करना होगा। ऐसे में सिंधु का मानना है कि टूर्नामेंट्स का चयन करना आसान नहीं होगा। सिंधु ने कहा, ‘निश्चित तौर पर यह आसान नहीं होने वाला। ओलंपिक्स क्वॉलिफिकेशन को देखते हुए यह थोड़ा कड़ा होगा और साथ ही आपको चोट से भी बचना होगा। कुछ अनिवार्य प्रतियोगिताएं होती हैं और आपको चुनना पड़ता है।’

सिंधू ने आगे कहा, ‘हर टूर्नामेंट में अपना शत-प्रतिशत देने के लिए आपको मानसिक और शारीरिक रूप से फिट होना होता है। इसलिए हमें ऐसे टूर्नामेंट चुनने होंगे जहां हम अपना शत प्रतिशत दे सकें।’

Author: हिंदी में स्पोर्ट्स

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *