इंडोनेशिया ओपन : एक और फाइनल में हारीं पीवी सिंधु

चौथी रैंक वाली जापानी शटलर अकाने यामागुची ने सीधे सेट्स में भारतीय बैडमिंटन स्टार पीवी सिंधु को 21-15, 21-16 से पीटकर इंडोनेशिया ओपन का खिताब जीत लिया।

टूर्नामेंट में बेहतरीन खेल दिखाकर नोज़ोमी ओकुहारा और चुन यु फी जैसी प्लेयर्स को हराने वाली सिंधु को साल के अपने पहले फाइनल में हारकर सिल्वर मेडल से संतोष करना पड़ा।

कमाल की यामागुची

इससे पहले यामागुची ने मैच में बेहतरीन शुरुआत की और पहले सेट में 3-0 की लीड ले ली। इसके बाद सिंधु ने अपना खेल सुधारा और स्कोर 8-11 किया लेकिन यामागुची ने यहां से फिर गियर बदला और लगातार 9 पॉइंट्स जीत लिए। यामागुची ने पहले सेट को 21-15 से अपने नाम किया।

दूसरा गेम शुरुआत से ही नजदीकी रहा जहां पहले कुछ पॉइंट्स गंवाने के बाद सिंधु ने 4-4 से बराबरी कर ली। हालांकि यामागुची ने सिंधु को ज्यादा मौके ना देते हुए गेम में लगातार लीड बनाए रखी और अंत में इसे 21-16 से जीत लिया।

चूक गईं सिंधु

इस मुकाबले से पहले यामागुची के खिलाफ सिंधु का रिकॉर्ड 10-4 था लेकिन फाइनल में यामागुची के आगे सिंधु की एक ना चली। सिंधु ने मैच के बाद मौजूदा वर्ल्ड नंबर वन ताइ ज़ु यिंग को हराकर फाइनल में पहुंची यामागुची की जमकर तारीफ की।

सिंधु ने कहा,

उसने सच में काफी अच्छा खेला और वहां लंबी रैलियां थीं। मैं पहले गेम में 2-3 पॉइंट्स से लीड कर रही थी लेकिन फिर मैंने कुछ गलतियां की और उसने पूरा फायदा उठाया। अगर मैं पहला गेम जीत जाती तो यह थोड़ा अलग हो सकता था।

दूसरे गेम में मैंने उसे 5-6 पॉइंट्स की बड़ी लीड दे दी। लेकिन ओवरऑल देखें तो यह मेरे लिए अच्छा टूर्नामेंट था और मुझे उम्मीद है कि मैं इससे मिला कॉन्फिडेंस आगे ले जा पाऊंगी। अब मुझे जापान में खेलना है और उम्मीद है कि मैं वहां अच्छा करूंगी।

गौरतलब है कि आखिरी बार किसी सेमी-फाइनल में भारतीय शटलर के खिलाफ जापानी प्लेयर को जीत ऑल इंग्लैंड चैंपियनशिप में मिली थी।

इतना ही नहीं इस हार ने एक बार फिर से फाइनल मैचों में सिंधु के कमजोर प्रदर्शन की ओर लोगों का ध्यान खींचा है। सिंधु इससे पहले ओलंपिक, वर्ल्ड चैंपियनशिप, एशियन गेम्स, कॉमनवेल्थ गेम्स, थाईलैंड ओपन और इंडिया ओपन जैसे टूर्नामेंट्स के फाइनल में हार चुकी हैं।

फाइल फोटो

Author: सूरज

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *