एशियन बॉक्सिंग चैंपियनशिप : पूजा और अमित को गोल्ड, भारत ने जीते 13 मेडल्स

एशियन गेम्स की ब्रॉन्ज मेडलिस्ट पूजा रानी ने बीते शुक्रवार, 26 अप्रैल को बैंकॉक में खत्म हुई एशियन बॉक्सिंग चैंपियनशिप के आखिरी दिन बड़ा उलटफेर करते हुए गोल्ड मेडल अपने नाम कर लिया।

मेंस 52KG के फाइनल में एशियन गेम्स के गोल्ड मेडलिस्ट अमित पंघल ने कोरिया के किम इनक्यू को 5-0 से पस्त कर गोल्ड मेडल जीता। भारत ने इस टूर्नामेंट में अपना सफर दो गोल्ड समेत 13 मेडल्स के साथ किया। यह इस टूर्नामेंट में भारत का अब तक का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन है।

वर्ल्ड चैंपियन को धोया

पूजा ने विमिंस 81KG कैटेगरी के मुकाबले में वर्ल्ड चैंपियन वांग लिन को मात देकर गोल्ड मेडल जीता। पहली बार 81KG कैटेगरी में उतरीं पूजा ने चाइनीज बॉक्सर को 4-1 से हराया। इससे पहले पूजा 75KG कैटेगरी में खेलती थीं।

यह भारत का इस टूर्नामेंट की 81KG कैटेगरी में पहला गोल्ड मेडल है। भिवानी की इस बॉक्सर का यह एशियन चैंपियनशिप का कुल तीसरा मेडल है। इससे पहले वह 2012 में सिल्वर और 2015 में ब्रॉन्ज मेडल जीत चुकी हैं।

कमाल के अमित

इधर अमित पंघल ने 52KG कैटेगरी के फाइनल में कोरिया के किम इनक्यू को 5-0 से मात दी। पंघल पहली बार 52KG कैटेगरी में खेल रहे थे। इससे पहले वे 49KG में खेलते थे। पंघल ने अपनी बेहतरीन ताकत और टेक्नीक का परिचय देते हुए जीत हासिल की।

एशियन चैंपियनशिप में पंघल का यह दूसरा मेडल है। 2017 में उन्होंने ब्रॉन्ज मेडल जीता था। इस टूर्नामेंट से पहले उन्होंने फरवरी में स्ट्रेंजा मेमोरियल टूर्नामेंट का गोल्ड मेडल भी जीता था।

हार गए बाकी बॉक्सर

अमित और पूजा को छोड़कर भारत को चार अन्य फाइनल मुकाबलों में सिल्वर मेडल से संतोष करना पड़ा। कविंदर सिंह बिष्ट को 56KG फाइनल में एशियन गेम्स के मौजूदा चैंपियन उज्बेकिस्तान के मिराजिज्बेक मिजार्खालिलोव के खिलाफ 5-0 की हार झेलनी पड़ी। कविंदर इस मैच में सेमी-फाइनल में लगी आंख की चोट के साथ खेल रहे थे।

इधर माकरान कप के विजेता दीपक कुमार को 49KG कैटेगरी में उज्बेकिस्तान के नोडिजरेन मिर्जामदेव ने हराया। आशीष कुमार को 75KG कैटेगरी के फाइनल में कजाकिस्तान के तुरस्यानबे कुलाखमेट ने 5-0 से हराया।

विमिंस कैटेगरी में सिमरनजीत सिंह को सिल्वर मेडल से संतोष करना पड़ा। 64KG के फाइनल में इस इंडियन बॉक्सर को चीन की डोउ डान ने 4-1 से हराया। चीनी बॉक्सर ने सिमरनजीत को पिछले साल हुई वर्ल्ड चैंपियनशिप में भी हराया था। बिष्ट, दीपक, आशीष और सिमरनजीत पहली बार एशियन चैंपियनशिप में उतरे थे।

जीते सात ब्रॉन्ज मेडल्स

इससे पहले गुरुवार को भारत ने इस टूर्नामेंट में सात ब्रॉन्ज मेडल हासिल किए थे। शिव थापा को 60KG में मिला ब्रॉन्ज मेडल इस टूर्नामेंट में उनका लगातार चौथा मेडल है। पूर्व वर्ल्ड चैंपियन सरिता देवी (60KG) ने ब्रॉन्ज के रूप में इस टूर्नामेंट का अपना आठवां मेडल जीता। इनके अलावा निखत जरीन (51KG), मनीषा मौन (54KG), सोनिया चहल (57KG), आशीष (69KG), सतीश कुमार (+91KG) को भी ब्रॉन्ज मेडल मिला।

एशियन चैंपियनशिप में पहली बार विमिंस और मेंस टूर्नामेंट एक साथ आयोजित कि गए थे। बताते चलें कि इससे पहले इस टूर्नामेंट में इंडियन मेन बॉक्सर्स का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन 2009 में आया था जब टीम ने एक गोल्ड, दो सिल्वर और चार ब्रॉन्ज जीते थे

Author: Jack

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *