धोनी को नंबर 7 पर भेजने से नाराज हैं इंडियन क्रिकेट के लेजेंड्स

बीती रात न्यूज़ीलैंड के खिलाफ मैनचेस्टर में खेले गए क्रिकेट वर्ल्ड कप 2019 के पहले सेमी-फाइनल मुकाबले में महेन्द्र सिंह धोनी को सातवें नंबर पर बल्लेबाजी कराने के टीम के फैसले पर इंडियन क्रिकेट के लेजेंड्स, सौरव गांगुली और वीवीएस लक्ष्मण ने नाराजगी जाहिर की है।

इंडिया की इस हार से दोनों प्लेयर्स काफी दुखी हैं। कीवी बॉलर्स द्वारा भारत को दिए गए शुरुआती झटके के बाद टीम की स्थिति काफी खराब थी। केवल 24 रन के स्कोर पर भारत के चार प्लेयर्स पवेलियन लौट चुके थे जिसमें दोनों ओपनर्स के साथ विराट कोहली और दिनेश कार्तिक भी शामिल थे।

इतनी जल्दी चार विकेट खोने के बाद भी टीम मैनेजमेंट ने धोनी को सातवें नंबर पर बैटिंग करने भेजा।

धोनी-जडेजा की जोड़ी

सातवें नंबर पर बल्लेबाजी करने आए धोनी ने ऑलराउंडर रविन्द्र जडेजा के साथ मिलकर इंडिया को 240 रनों के लक्ष्य के काफी करीब तो पहुंचा दिया लेकिन टीम को जीत नहीं दिला पाए।

टीम इंडिया 18 रनों से यह मैच हारकर वर्ल्ड कप से बाहर हो गई। इस हार के बाद लक्ष्मण ने कहा,

धोनी को पंड्या से पहले बल्लेबाजी करने आना चाहिए था। यह एक टैक्टिकल ब्लंडर था। धोनी को दिनेश कार्तिक से भी पहले आना चाहिए था। धोनी के लिए स्टेज सजा था। साल 2011 के फाइनल में धोनी ने चार नंबर पर बैटिंग के लिए युवराज की जगह खुद को प्रमोट किया था और वर्ल्ड कप जीता था।

अनुभव की थी जरूरत

बता दें कि भारत के पूर्व कप्तान गांगुली भी लक्ष्मण की इस बात से इत्तेफाक रखते हैं। उनका भी मानना है कि धोनी को ऊपर आकर बैटिंग करनी चाहिए थी।

दादा ने कहा कि यह केवल धोनी की बैटिंग की बात नहीं है बल्कि दूसरे एंड पर बैटिंग कर रहे युवा बल्लेबाजों पर उनके शांत स्वभाव का पॉजिटिव प्रभाव भी पड़ता। दादा ने कहा,

उस वक्त इंडिया को अनुभव की जरूरत थी। अगर धोनी उस वक्त होते जब पंत बैटिंग कर रहे थे तो वह उन्हें उस शॉट (जिसपर वह आउट हुए)को खेलने से रोकते। इंग्लैंड में ब्रीज एक बहुत बड़ा फैक्टर है। वह पंत को पेसर्स के खिलाफ शॉट लगाने की सलाह देते जब मिड ऑन और मिड ऑफ आगे होता क्योंकि पंत इसमें माहिर हैं।

धोनी को ऊपर आना चाहिए था। आपको उस कंपोजर की जरूरत होती है न कि केवल उनकी बल्लेबाजी की। माही विकेट्स को ऐसे लगातार गिरने नहीं देते। जडेजा जब बैटिंग कर रहे थे तब धोनी वहां क्रीज़ पर मौजूद थे। कम्युनिकेशन ताकत है। आप धोनी को सात नंबर पर नहीं रख सकते।

सचिन का सपोर्ट

गौरतलब है कि वर्ल्ड कप के दौरान धोनी के इंटेंट पर सवाल उठाने वाले सचिन तेंदुलकर को भी लगता है कि कीवीज के खिलाफ धोनी को सातवे नंबर पर भेजकर कप्तान कोहली ने बहुत बड़ी गलती की। उन्होंने कहा,

इस मोमेंट में सवाल यह है कि क्या आप धोनी को उनके अनुभव के साथ प्रमोट करने की नहीं सोचते? अंत में वह जडेजा के साथ बात कर रहे थे और इनिंग्स को कंट्रोल कर रहे थे। हो सकता है कि हार्दिक के पहले धोनी को आना चाहिए था। कार्तिक को पांचवे नंबर पर भेजना मेरी समझ से बाहर था।

बता दें कि दादा ने इस हार के लिए सेलेक्टर्स को भी जिम्मेदार ठहराया है। उनके मुताबिक पिछले डेढ़ साल में सेलेक्टर्स मिडल ऑर्डर के लिए सटीक बैट्समेन को तलाशने में नाकाम रहे हैं।

फोटो बीसीसीआई से साभार

Author: लवली

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *