शांताकुमारन श्रीसंत को मिली ‘सुप्रीम राहत’

BCCI से लाइफटाइम बैन का सामना कर रहे टीम इंडिया के पूर्व पेसर शांताकुमारन श्रीसंत को सुप्रीम कोर्ट ने बड़ी राहत दी है। शुक्रवार, 15 मार्च को देश की शीर्ष अदालत ने उनपर लगा लाइफटाइम बैन निरस्त करने का फैसला सुनाया। इसके साथ ही कोर्ट ने BCCI को 3 महीने के अंदर इस मामले पर फैसला लेने का आदेश दिया है। आपको बता दें कि BCCI के फैसले तक श्रीसंत खेल नहीं पाएंगे।

छह साल से झेल रहे हैं ‘वनवास’

साल 2013 IPL सीजन के दौरान स्पॉट फिक्सिंग में नाम सामने आने के बाद BCCI ने उन पर लाइफटाइम बैन लगा दिया था। अपने फैसले में कोर्ट ने कहा, ‘श्रीसंत को दी गई सजा अधिक है। BCCI उनकी सजा पर फिर से विचार करे और 3 महीने के भीतर इसपर निर्णय ले।’ अपने फैसले में कोर्ट ने यह भी साफ कर दिया कि श्रीसंत का यह कहना बिल्कुल गलत है कि BCCI को उन्हें सजा देने का अधिकार नहीं है। कोर्ट ने कहा, ‘BCCI को किसी भी मामले में क्रिकेटर पर अनुशासनात्मक कार्रवाई करने का अधिकार होता है।’

कोर्ट के फैसले के बाद टाइम्स ऑफ इंडिया से बातचीत में श्रीसंत ने इस फैसले पर संतुष्टि जताई। उन्होंने कहा, ‘सुप्रीम कोर्ट ने मुझे एक नई जीवनरेखा दी है। इससे मुझे अपना खोया सम्मान पाने में मदद मिलेगी। मैंने प्रैक्टिस शुरू कर दी है और उम्मीद है कि मैं जल्द ही क्रिकेट खेलने लग जाऊंगा।’ भारत के लिए 27 टेस्ट, 53 एकदिवसीय और 10 T20 इंटरनैशनल मैच खेलने वाले इस पेसर ने BCCI से अनुरोध किया कि वह उनकी सजा पर कोई फैसला लेने के लिए पूरे 90 दिनों का समय ना ले।

अब BCCI के पाले में गेंद

अपने करियर में 169 इंटरनेशनल विकेट ले चुके श्रीसंत ने कहा कि वह काफी वक्त से इंतजार कर रहे हैं। श्रीसंत ने कहा, ‘मैंने काफी लंबा इंतजार किया है। करीब छह साल से इंतजार कर रहा हूं।’ श्रीसंत ने कहा कि वह क्लब क्रिकेट खेलना शुरू करना चाहते हैं।

बता दें कोर्ट के इस फैसले के बाद भी अभी यह तय नहीं हुआ है कि यह पेसर डोमेस्टिक या इंटरनेशनल लेवल पर क्रिकेट खेलने को तैयार है। कोर्ट ने BCCI को 3 महीने का समय दिया है और साथ ही सजा का समय भी BCCI ही तय करेगा। उन पर लगे लाइफटाइम बैन को हटा लिया गया है, लेकिन सजा की नई समय-सीमा पर अब BCCI फिर से कोई फैसला लेगा।

Author: Jack

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *