ओलंपिक क्वॉलिफायर्स की रेस से बाहर होकर भी इंडियन विमिंस फुटबॉल टीम ने जगाई आस

इंडियन विमिंस फुटबॉल टीम AFC Tokyo2020 क्वॉलिफायर्स के दूसरे राउंड से ही बाहर हो गई। टीम को आगे बढ़ने के लिए अपने आखिरी मैच में म्यांमार को हराना था लेकिन भारतीय महिलाएं ऐसा कर पाने में नाकाम रहीं।

करो या मरो के इस मैच में भारत काफी मेहनत करने के बाद भी म्यांमार से पार नहीं पा सका। भारत ने इस मैच में तीन गोल जरूर दागे लेकिन म्यांमार की तरफ से विन तुन ने हैटट्रिक मार मैच बचा लिया। हालांकि इस निराशा के बाद भी टीम इंडिया ने अपने प्रदर्शन से भविष्य के लिए आशाएं जगा दी हैं।

गोल अंतर पड़ा भारी

इस मैच में भारत के लिए संध्या ने 10वें, संजू ने 32वें और रतन बाला देवी ने 64वें मिनट में गोल किए। जबकि म्यांमार के लिए विन तुन ने 17वें, 22वें और 72वें मिनट में गोल्स दागकर अपनी हैटट्रिक पूरी की।

भारतीय टीम मैच के 64वें मिनट तक 3-2 से आगे थी, लेकिन 72वें मिनट में विन तुन ने म्यांमार के लिए अपना मैच की तीसरा गोल दागकर मुकाबला 3-3 से बराबर कर लिया। इससे पहले दोनों टीमों ने दो-दो मैच खेलकर 6-6 पॉइंट बनाए थे। गोल अंतर के आधार पर मेजबान म्यांमार की टीम ग्रुप-A में टॉप पर थी। मैच ड्रॉ होने के बाद टीम इंडिया को गोल अंतर में पिछड़ने का खामियाजा भुगतना पड़ा।

पांच महीने पहले कोच मेमोल रॉकी के मार्गदर्शन में भारतीय टीम ने म्यांमार में ही खेलकर पहली बार AFC ओलंपिक क्वॉलिफायर्स के सेकंड राउंड में एंट्री की थी। हालांकि भले ही टीम निराशाजनक तरीके से बाहर हो गई हो लेकिन अपने सुधरे प्रदर्शन से उन्होंने उम्मीदें जगा दी हैं।

उम्मीदें जगाने वाला प्रदर्शन

इसी साल भारत में हुए हीरो विमिंस गोल्ड कप में नेपाल से हारने वाली टीम इंडिया ने यहां नेपाल को 3-1 से हराया। इस गेम में टीम ने शानदार प्रदर्शन किया और मैच देखते वक्त लग नहीं रहा था कि यह वही टीम है जिसने पहले 10 मिनट में दो गोल खाकर अपने ही घर में नेपाल के खिलाफ सरेंडर कर दिया था।

इतना ही नहीं म्यांमार के खिलाफ 3-3 का ड्रॉ खेलना भी मनोबल बढ़ाने वाली बात है। इस टीम ने हीरो विमिंस गोल्ड कप में हमें बेहद आसानी से 2-0 से हराया था। ऐसे में सिर्फ 21 साल की औसत उम्र वाली यंग टीम इंडिया द्वारा उनके खिलाफ तीन गोल मारना, अपनी फर्स्ट चॉइस गोलकीपर अदिति के बिना भी उन्हें ड्रॉ पर रोक लेना निश्चित तौर पर भविष्य के लिए उम्मीदें जगाता है।

Author: सूरज

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *