वर्ल्ड कप 2019 : टीम इंडिया की शानदार जीत से निकले पांच निष्कर्ष

काफी इंतजार के बाद आखिरकार भारतीय फैंस ने टीम इंडिया को ग्रेट ब्रिटेन में चल रहे क्रिकेट वर्ल्ड कप 2019 में एक्शन में देखा। टीम इंडिया ने कल साउथैम्प्टन में अपना पहला मैच खेला। विराट की सेना ने अपने वर्ल्ड कप अभियान की शानदार शुरुआत करते हुए साउथ अफ्रीका को 6 विकेट से धो दिया।

साउथैम्पटन के रोज बाउल स्टेडियम में हुए इस मुकाबले में पहले तो इंडियन बॉलर्स ने शानदार प्रदर्शन करते हुए साउथ अफ्रीका को 227 रन पर ही समेट दिया। फिर हिटमैन रोहित शर्मा (122 नॉटआउट) के दम पर भारत ने आसानी से जीत दर्ज की।

तो चलिए आपको बताते हैं इस जीत से निकले पांच निष्कर्ष

कातिल बुमराह

विराट इस मैच में टॉस हारने के बाद अपनी किस्मत पर मुस्कुराए जरूर होंगे। विराट को पता था कि उनके पास इस वक्त क्रिकेट का बेस्ट पेसर है और उसकी मदद करेंगे यहां के बादल और इस पिच पर मौजूद नमी।

हुआ भी ऐसा ही और इस नमी का पूरा फायदा बुमराह को मिला। अपने पहले ओवर में सिर्फ दो रन देने वाले बुमराह ने अपने दूसरे ओवर की दूसरी ही बॉल पर हाशिम अमला को वापस पवेलियन भेज दिया।

गुडलेंथ पर पटकी गई यह बॉल ऑफ स्टंप के थोड़ा सा बाहर थी और अमला क्रीज से ही इसे डिफेंड करना चाहते थे। पिच से मिली अतिरिक्त उछाल के बाद बॉल ने उनके बल्ले का बाहरी किनारा लिया और बाकी का काम सेकंड स्लिप में मौजूद रोहित शर्मा ने पूरा किया।

बुमराह ने अपने अगले ओवर की पांचवीं गेंद पर क्विंटन डि कॉक का शिकार कर महज 24 रन पर साउथ अफ्रीका के दोनों ओपनर्स को वापस भेज दिया। बुमराह की यह गेंद थोड़ी ज्यादा बाहर लेकिन बाकी बॉल्स से ज्यादा फुललेंथ पर थी और डि कॉक इसपर शॉट लेने से खुद को नहीं रोक पाए। उनके बल्ले का बाहरी किनारा लेकर बॉल थर्ड स्लिप में विराट कोहली के सुरक्षित हाथों में पहुंच गई।

बुमराह के दिए शुरुआती झटकों से साउथ अफ्रीका उबर ही नहीं पाई और उनकी रखी गई नींव पर भारतीय स्पिनर्स ने जीत का महल खड़ा कर दिया।

सेट हैं स्पिनर्स

टूर्नामेंट में अब तक लगभग हर मैच में स्पिनर्स ही मैच विनर साबित हुए हैं। यह बात भी कोहली के पक्ष में थी क्योंकि उनके पास वर्ल्ड क्रिकेट के दो सबसे बेहतरीन रिस्ट स्पिनर हैं।

युजवेंद्र चहल और कुलदीप यादव ने अटैक पर आने के बाद साउथ अफ्रीका की समस्याएं और बढ़ा दीं। तीसरे बॉलिंग चेंज के रूप में बॉल थामने वाले चहल ने सबसे पहले धीरे-धीरे क्रीज पर सेट हो रहे वान डर दुसें (22) को बोल्ड किया और फिर इसी ओवर में उनका साथ दे रहे साउथ अफ्रीकी कैप्टन फाफ डु प्लेसी को भी बोल्ड कर वापस भेज दिया।

दुसें जहां काफी पहले रिवर्स स्वीप खेलने की अपनी इच्छा जाहिर कर फंसे वहीं डु प्लेसी को बैट और पैड के बीच लंबा गैप छोड़ने का खामियाजा भुगतना पड़ा।

पारी के 23वें ओवर में कुलदीप ने शानदार बॉल फेंक जेपी डुमिनी को LBW कर वापस भेजा। इसके बाद चहल ने 36वें ओवर में डेविड मिलर को कॉट एंड बोल्ड करने के बाद 40वें ओवर में फेलुक्वायो धोनी से स्टंप कराया। बीच के ओवर्स में स्पिनर्स ने पांच विकेट झटके और यह पांच विकेट साउथ अफ्रीका पर काफी भारी पड़े।

अंतिम ओवर्स की चिंता

मैच में शानदार बॉलिंग के दम पर 40वें ओवर तक साउथ अफ्रीका के 7 विकेट गिरा चुकी टीम इंडिया की पुरानी नाकामी यहां भी जारी रही। टेलेंडर्स को आउट करने में टीम इंडिया के बॉलर्स का संघर्ष यहां भी जारी रहा।

टीम इंडिया के बॉलर्स की धार फिर से 40वें ओवर के बाद कुंद पड़ी और 40 ओवर तक सात विकेट खो चुकी साउथ अफ्रीका ने अगले 9 ओवर तक एक भी विकेट नहीं दिया। क्रिस मॉरिस और कगिसो रबाडा ने इस दौरान 62 रन की पार्टनरशिप कर डाली।

टीम इंडिया के पास विपक्षियों को 200 के अंदर आउट करने का मौका था लेकिन मॉरिस और रबाडा पर भुवी और बुमराह की अनुभवी जोड़ी के सारे तीर नाकाम रहे। अंतत: भुवी ने दो विकेट झटके लेकिन मैच के आखिरी ओवर में।

शिखर का भूमिपूजन

टीम इंडिया के सामने 228 रन की आसान चुनौती थी। लेकिन जैसे नई जमीन खरीदने पर पंडितजी आते हैं, भूमिपूजन कराते हैं और दक्षिणा लेकर चलते बनते हैं वही काम यहां शिखर धवन ने किया। पारी के छठे ओवर की पहली ही बॉल पर धवन विकेट के पीछे डि कॉक को कैच दे बैठे।

सिर्फ 13 रन के टोटल पर आउट होकर धवन ने टीम इंडिया से एकतरफा चेज की उम्मीद कर रहे फैंस के अरमानों की धज्जियां उड़ा दी। इस टूर के वॉर्म-अप मैचों में नाकाम रहे धवन की खराब फॉर्म जारी रही और यह कोहली, टीम मैनेजमेंट, स्पोर्ट्स मिनिस्ट्री, प्राइम मिनिस्टर ऑफिस और इंडियन फैंस सबके लिए बुरी खबर है।

पिछली 10 पारियों में सिर्फ एक हाफ-सेंचुरी और एक सेंचुरी लगा पाए धवन ने बाकी की 8 पारियों में सिर्फ 89 रन जोड़े हैं।

शर्मा जी की परिपक्वता

रोहित शर्मा वनडे में अपनी डबल सेंचुरीज से ज्यादा विकेट थ्रो करने के लिए फेमस हैं लेकिन इस मैच में शर्मा जी के इस बेटे ने कमाल की परिपक्वता दिखाई। धवन और कोहली के जल्दी-जल्दी आउट होने का प्रभाव अपने ऊपर नहीं पड़ने दिया और एक छोर पर खूंटा गाड़े रखा।

हालांकि इस दौरान वह भाग्यशाली भी रहे जब साउथ अफ्रीकी फील्डर्स ने सिर्फ 1 रन के निजी स्कोर पर उनका एक टफ और फिर 107 के निजी स्कोर पर बेहद आसान कैच गिराए। मिले मौकों के साथ अपनी इच्छाशक्ति मिक्स कर रोहित ने 23वां वनडे शतक जड़ भारत को आसान जीत दिला दी।

रोहित की इस नॉटआउट पारी की सबसे खास बात उनका धैर्य ना खोना रहा और अपनी हाफ-सेंचुरी के लिए 70 बॉल्स लेने वाले रोहित ने अगले 50 रन 58 बॉल्स में पूरे किए।

सारी फोटोज आईसीसी से साभार

Author: सूरज

1 thought on “वर्ल्ड कप 2019 : टीम इंडिया की शानदार जीत से निकले पांच निष्कर्ष

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *