एशियन रेसलिंग चैंपियनशिप : भारत ने जीते कुल 16 मेडल्स

भारतीय ग्रीको-रोमन रेसलर्स ने एशियन रेसलिंग चैंपियनशिप में अपने सफर का अंत तीन सिल्वर और एक ब्रॉन्ज मेडल के साथ किया। टूर्नामेंट के आखिरी दिन 82KG में हरप्रीत सिंह और 60KG में ज्ञानेंद्र सिंह ने ब्रॉन्ज मेडल जीता।

यह इस टूर्नामेंट के इतिहास में भारतीय ग्रीको-रोमन रेसलर्स का अब तक का बेस्ट प्रदर्शन है। ओवरऑल की बात करें तो भारतीय रेसलर्स ने इस इवेंट में 16 मेडल्स जीते।

ग्रीको-रोमन में दिया बेस्ट

आखिरी दिन के मेडल्स मिलाकर भारत ने इस बार ग्रीको-रोमन में तीन सिल्वर और एक ब्रॉन्ज मेडल जीता। टीम का यह प्रदर्शन पिछली बार के दो ब्रॉन्ज मेडल्स से बेहतर था। इतना ही नहीं यह एशियन रेसलिंग चैंपियनशिप की इस कैटेगरी में भारत का अब तक का बेस्ट प्रदर्शन है।

फाइनल में बेहतरीन प्रदर्शन करने वाले हरप्रीत को अंततः हार का सामना करना पड़ा। इस टूर्नामेंट में लगातार तीन ब्रॉन्ज मेडल जीतने वाले हरप्रीत का यह पहला सिल्वर मेडल है। टूर्नामेंट के फाइनल में उन्हें पूर्व वर्ल्ड चैंपियन और ओलंपिक मेडलिस्ट ईरान के सईद मोराद अब्द्वाली ने टेक्निकल सुपीरियरिटी के आधार पर 8-0 से हराया।

मैच के बाद हरप्रीत ने कहा, ‘मैंने अपनी तरफ से पूरी कोशिश की लेकिन यह मेरा दिन नहीं था, खासतौर से एक विपक्षी जो कि पूर्व वर्ल्ड चैंपियन और ओलंपिक मेडलिस्ट है, बहुत मजबूत था। मैं इसके बाद भी खुश हूं कि मैंने पिछले साल के अपने मेडल का रंग बदलने में कामयाबी पाई और उम्मीद है कि भविष्य में भारत के लिए और ख्याति अर्जित करूंगा।’

प्ले-ऑफ में मिला ब्रॉन्ज

इधर 60KG कैटेगरी में ज्ञानेंद्र ने चाइनीज ताइपे के जुइ ची हुंग को 9-0 से पीटकर ब्रॉन्ज मेडल अपने नाम किया। क्वॉर्टर-फाइनल में जॉर्डन के अली अबेद अलनासेर अली अबुसेफ को 9-1 से हराने वाले ज्ञानेंद्र को सेमी-फाइनल में उज़्बेकिस्तान के इस्लोमजोन बखरामोव ने 9-0 से हराया था।

बखरामोव के फाइनल में पहुंचने के बाद ज्ञानेंद्र को ब्रॉन्ज मेडल के प्ले-ऑफ में उतरने का मौका मिला और उन्होंने इस मौके का पूरा फायदा उठाया। 72KG में योगेश मेडल से चूक गए। क्वॉर्टर-फाइनल में हुजुन झैंग से 9-0 से हारने वाले योगेश को ब्रॉन्ज मेडल के लिए दोबारा रिंग में उतरने का मौका मिला था लेकिन यहां उन्हें किर्गिस्तान के रुसलान सारेव ने 8-0 से परास्त कर दिया।

इधर 97KG में हरदीप क्वॉर्टर-फाइनल में हार गए और 67KG में रविंदर क्वॉलिफिकेशन भी पार नहीं कर पाए।

टीम इंडिया का शानदार प्रदर्शन

इस इवेंट में गए 30 सदस्यों वाले भारतीय दल ने टूर्नामेंट में 1 गोल्ड, 6 सिल्वर और 9 ब्रॉन्ज मेडल जीते। वर्ल्ड नंबर-1 बजरंग पुनिया ने 65KG में भारत को गोल्ड मेडल दिलाया था। इसके बाद इंडियन फ्रीस्टाइल रेसलर्स ने तीन सिल्वर और चार ब्रॉन्ज मेडल्स और जीते।

अमित धनकर (74KG), प्रवीन राणा (79KG) और विकी (92KG) ने भारत को सिल्वर मेडल्स दिलाए जबकि राहुल अवारे (61KG), दीपक पुनिया (86KG), सत्यव्रत कादियान (97KG), और सुमित मलिक (125KG) ने ब्रॉन्ज मेडल्स अपने नाम किए।

कॉमनवेल्थ और एशियन गेम्स की गोल्ड मेडलिस्ट विनेश फोगाट (53KG) और रियो ओलंपिक्स की साक्षी मलिक (62KG) के साथ दिव्या काकरान (68KG) और मंजू कुमारी (59KG) ने ब्रॉन्ज मेडल्स जीते।

ग्रीको-रोमन में गुरप्रीत सिंह (77KG), सुनील कुमार (87KG) हरप्रीत सिंह (82KG) ने सिल्वर मेडल्स जबकि ज्ञानेंद्र (60KG) ने ब्रॉन्ज मेडल जीता।

Author: Jack

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *